महिलाओं और बच्चों पर अत्याचारों के विरूद्ध चले जन आंदोलन – सत्य पाल जैन

चंडीगढ़ 23 फरवरी, 2019. चण्डीगढ़ के पूर्व सांसद, भारत सरकार के अपर महासलिसिटर एवं भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्य श्री सत्य पाल जैन ने कहा है कि भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ‘‘बेटी बचाओ – बेटी पढ़ाओ’के आंदोलन का नारा देकर तथा ‘‘ट्रिपल तलाक’पर प्रतिबंध लगाने का बिल लाकर देश में महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों पर करारी चोट की है। उन्होंने कहा कि आज आवष्यकता है कि सारा देश समूची देष की महिलाओं तथा बच्चों पर हो रहे हर प्रकार के अत्याचार के विरूद्ध एक जन आंदोलन के तौर पर खड़ा हो जाये।

           श्री जैन आज प्रातः बद्दी में महाराजा अग्रसैन विष्वविद्यालय में भारत में ‘‘महिलाओं एवं बच्चों से अन्याय- कारण एवं समाधान’विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमीनार में मुख्य अतिथि के नाते उपस्थित जन समूह को सम्बोधित कर रहे थे। श्री जैन ने दीप प्रजलन करके इस सेमीनार का उद्घाटन किया तथा वाईस चांसलर डॉ0 आर. के. गुप्ता एवं श्री सुरेष गुप्ता ने उन्हें टोपी, शाल तथा फूलों का गुलदस्ता देकर सम्मानित किया।

           श्री जैन ने कहा कि इतने कानून होने के वाबजूद भी देश में महिलाओं एवं बच्चों पर अन्याय शोषण एवं अत्याचार की घटना जारी है। उन्होंने कहा कि जो देश या समाज अपनी महिलाओं की इज्जत नहीं कर सकता, उसका भविष्य कभी भी उज्जवल नहीं हो सकता। उन्होंने कहा यदि जन जनार्दन धर्म, जाति, भाषा या प्रान्त के भेदभाव से उपर उठकर, समाज में कहीं भी महिला या बच्चों पर हो रहे अत्याचार के विरूद्ध अपनी आवाज बुलंद करना शुरू कर दे तो समाज में यह अन्याय एवं अत्याचार की घटनायें बंद हो सकती है।

      श्री जैन ने कहा कि एक महिला अपना सुख दुःख छोड़कर परिवार समाज एवं देश की सेवा करती है तथा ऐसी महिलाओं से अन्याय करना घोर पाप एवं अपराध है।